सुरंग में ऑगर मशीन से ड्रिलिंग शुरू

सुरंग में ऑगर मशीन से ड्रिलिंग शुरू

मजदूरों से लगातार हो रहा संपर्क- लेफ्टिनेंट जनरल सैयद अता हसनैन

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के सदस्य, लेफ्टिनेंट जनरल सैयद अता हसनैन ने कहा कि सुरंग के अंदर पर्याप्त पानी, ऑक्सीजन और रोशनी है। फंसे हुए श्रमिकों के कुछ परिवारों को वहां पहुंचाया गया है। जिन राज्यों से श्रमिक आए हैं वहां के प्रशासन से संपर्क किया गया है। श्रमिकों के परिवार वहां लगाए गए चार इंच के पाइप से अपनों से बातें कर रहे हैं।

मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने किया सुरंग का निरीक्षण

उत्तरकाशी जनपद प्रभारी व कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल भी आज सिलक्यारा पहुंचे। इस दौरान उन्होंने टनल का निरीक्षण किया। कहा कि हम बहुत जल्दी सफल होने वाले हैं। अभी तक पूरा अभियान सकारात्मक दिशा में जा रहा है। विपक्ष के आरोपों पर बोले कि ये वक्त राजनीति का नहीं है। विपक्ष को भी 41 मजदूरों को सुरक्षित बाहर निकालने की कामना करनी चाहिए। अगर विपक्ष के पास कोई सुझाव है तो हमे बताएं, हम अमल करेंगे।

केंद्र की टीवी चैनलों को सलाह, उत्तरकाशी घटना को सनसनीखेज न बनाएं

समाचार एजेंसी एनआई के मुताबिक, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने टीवी चैनलों को सलाह दी है कि वे उत्तरकाशी के सुरंग मामले को सनसनीखेज न बनाएं।

ऑगर मशीन से दोबारा ड्रिलिंग शुरू

सिलक्यारा सुरंग में ऑगर मशीन से दोबारा ड्रिलिंग शुरू हुई है। जिससे अब तक करीब 34 मीटर तक ड्रिलिंग की जा चुकी है। पूर्व में  900 एमएम व्यास के पाइप 22 मीटर तक डाले गए थे। इनके अंदर ही 820 एमएम व्यास के 12 मीटर तक पाइप डाले जा चुके हैं। सब कुछ ठीक रहा तो आज शाम तक पाइपों के आर-पार होने की उम्मीद की जा रही है।

आज के बड़े अपडेट

1-टनल के भीतर रात तीन बजे छह इंच की पाइप लाइन ब्लॉक हुई थी, जिसे फायर ब्रिगेड की गाड़ी ने पानी के प्रेशर से साफ किया। इसके बाद ही कैमरा अंदर जा पाया।
2- एसजेवीएन की मशीन आज दोपहर तक टनल के ऊपर पहुंचने की उम्मीद। शाम या रात को शुरू हो सकती है वर्टिकल ड्रिल।
3- टनल के भीतर अमेरिकी ऑगर मशीन को जल्दी ही शुरू करने की तैयारी।
4- टनल में फंसे मजदूरों को फल जैसे संतरे भेजे गए।
5- परिजन टनल में पहुंचे। अपनों से बात करके संतुष्ट दिखे।
6- आज टनल के आसपास भारी बंदिशें हैं, सरकारी वाहन भी नहीं जाने दे रहे। यूपीसीएल के इंजीनियरों को टनल के ऊपर विद्युतीकरण करने जाना है लेकिन पास के बहाने उन्हें रोका गया।
7- आरवीएनएल ने टनल के ऊपर आठ इंच के लाइफलाइन पाइप की ड्रिल को बेस बनाया।

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share