अब सख्ती से होगा सत्यापन, उत्तराखंड की डेमोग्राफी खराब करने की कोशिश – मुख्यमंत्री

अब सख्ती से होगा सत्यापन, उत्तराखंड की डेमोग्राफी खराब करने की कोशिश – मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि उत्तराखंड के मूल स्वरूप और डेमोग्राफी (जनसांख्यिकी) को खराब करने की कोशिश की जा रही है। इसे देखते हुए सख्त निर्देश दिए गए हैं कि जो भी प्रदेश में बाहर से काम करने आएगा। उसे पहले अपना सत्यापन करना होगा। वहीं जमीन की खरीदने के लिए भी सत्यापन प्रक्रिया पूर्ण करनी होगा। सीएम ने यह बात जनपद के व्यापार मंडल, होटल एसोसिएशन और बार एसोसिएशन सहित पूर्व सैनिक संगठन और अन्य संगठनों के साथ विभिन्न मुद्दों की चर्चा के दौरान कही। नगर व्यापार मंडल के अध्यक्ष रमेश चौहान ने फड़, रेहड़ी सहित बाहरी व्यापारियों के सघन सत्यापन की मांग सीएम के सामने रखी। वहीं होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष शैलेंद्र मटूड़ा ने पंजीकरण व्यवस्था में सुधार सहित दयारा और वरूणावत टॉप रोपवे की मांग की। शहर के कूड़े के हटाने की मांग की। वहीं चारधाम होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष अजय पुरी ने कहा गुप्तकाशी में ऑफलाइन पंजीकरण काउंटर खोला जाए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गंगोत्री और यमुनोत्री धाम आने का निमंत्रण देने की मांग रखी गई। वहीं पूर्व सैनिक संगठन के अध्यक्ष विरेंद्र सिंह नेगी ने वन रैंक वन पेंशन सहित शौर्य स्थल की सौंदर्यीकरण की मांग की। सीएम धामी ने कहा कि चारधाम यात्रा को व्यवस्थित करने सहित पर्यटन का बढ़ाने के लिए नई योजनाएं बनाई जा रही हैं।

पार्टी के जिलाध्यक्ष पर भेदभाव का लगाया आरोप
इसके बाद सीएम पुष्कर सिंह धामी ने जिला सभागार में भाजपा विधायकों सहित पार्टी के संगठन पदाधिकारियों के साथ बैठक की। इसमें संगठन की ओर से बैठक में शामिल होने वालों की 80 नामों की सूचना बनाई गई। इस पर पार्टी के कई वरिष्ठ और पूर्व संगठन पदाधिकारी सहित कार्यकर्ता नाराज हो गए। उन्होंने पार्टी के जिलाध्यक्ष पर भेदभाव का आरोप लगाया। कुछ देर तक जिला सभागार के नीचे बवाल करते रहे। सीएम बैठक समाप्त होने के बाद अपने काफिले के लिए रवाना हुए तो कार्यकर्ताओं ने उनके सामने भी नाराजगी जाहिर की। इस पर सीएम ने पार्टी कार्यकर्ताओं को परिवार के सदस्य बताकर मामला शांत किया।

छात्र-छात्राओं ने सीएम के सामने रखी सीमांत क्षेत्रों में शिक्षा-स्वास्थ व्यवस्था दुरुस्त करने की मांग

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने लोनिवि गेस्ट हाउस में सीमांत क्षेत्र के छात्र-छात्राओं के साथ सीमांत गांवों का विकास कैसे हो। इन विषयों पर चर्चा की।छात्र-छात्राओं ने सीएम के सामने अपने क्षेत्र की समस्याओं को रखा। राजकीय इंटर कॉलेज हर्षिल की छात्रा विद्या रौतेला ने निजी स्कूलों की तुलना में सरकारी स्कूलों में कम सुविधाओं और कमजोर शिक्षा व्यवस्था का मुद्दा उठाया।

एक छात्रा ने शहर के कूड़ा निस्तारण के लिए मुख्यमंत्री से सवाल किया। इस पर मुख्यमंत्री ने जल्द ही कूड़ा निस्तारण के लिए योजना धरातल पर उतारने का आश्वासन दिया। वहीं अटल आदर्श राजकीय बालिका इंटर कॉलेज की छात्रा वैष्णवी कैंतूरा ने रोजगार के मुद्दे पर सवाल किया। इस पर सीएम ने सरकारी नौकरियों के साथ ही स्वरोजगार के माध्यम से युवाओं को रोजगार देने की बात कही।

एनसीसी के कैडेट्स प्रशांत ने सूदूर क्षेत्रों में स्वास्थ सेवाओं को दुरुस्त करने की मांग की। वहीं झाला की दिव्या रौतेला ने सेब के बगीचों तक लिंक रोड़ बनाने की मांग रखी। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि वाइब्रेंट विलेज योजना के तहत सीमांत क्षेत्र के गावों में विकास की एक नई रुपरेखा तैयार की जा रही है।

खेतों में जुताई की और खाद का किया छिड़काव
जनपद के दो दिवसीय दौरे के दूसरे दिन सीएम पुष्कर सिंह धामी ने मार्निंग वॉक के दौरान नेताला और सिरोर के ग्रामीणों से मुलाकात की। इस दौरान सीएम धामी ने ग्राम सिरोर के ग्रामीणों के साथ खेतों में पावर वीडर से जुताई की। सिरोर में मंडुवे की खेती को बढ़ावा देने के लि लाइन शोइंग विधि से उत्पादन बढ़ाने के लिए बीज वितरित किए। साथ ही उन्होंने खेतों में जीवामृत और बीजामृत खाद का भी छिड़काव किया। ग्रामीण महिलाओं के साथ फलदार पौध रोपण किया। इस दौरान ग्रामीणों ने उनके सामने गांव में भागीरथी नदी से हो रहे कटाव की जानकारी दी। इसके बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बाबा काशी विश्वनाथ मंदिर सहित शक्ति मंदिर में पूजा अर्चना की।

Related articles

Leave a Reply

Share