नर्मदा डैम के पास जंगल सफारी का जायजा लेते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आज 69वां जन्‍मदिन है। वह आज नमामि देवी नर्मदे महोत्सव के तहत सरदार सरोवर बांध पर मां नर्मदा की महाआरती करके अपना जन्‍मदिन मनाएंगे। नर्मदा जिले के केवडि़या पहुंच गए हैं। उन्‍होंने नर्मदा जिले के केवड़िया में बांध तथा स्टेच्यू ऑफ यूनिटी के पास चल रहीं विकास परियोजनाओं का जायजा लिया। यही नहीं वह सरदार सरोवर बांध के अपनी क्षमता तक भरने की ऐतिहासिक घटना के गवाह भी बने। नर्मदा के जिला कलेक्टर आई के पटेल ने बताया कि केवड़िया में बांध स्थल पर पहुंचने के बाद प्रधानमंत्री एक सभा को संबोधित करेंगे। समारोह के लिए गुंबद के आकार का एक बड़ा पंडाल बनाया गया है जिसमें नर्मदा, भरूच और छोटाउदयपुर जिलों से आने वाले करीब 10 हजार लोग आ सकेंगे।

 नर्मदा जिले के केवडिया में खलवानी इको-टूरिज्म स्थल का दौरा करते प्रधानमंत्री मोदी।

जंगल सफारी का अवलोकन करने के बाद केवड़िया में कैक्‍टस गॉर्डन का जायजा लेते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।

भगवान दत्तात्रेय के मंदिर में दर्शन पूजन का कार्यक्रम 
वह दोपहर करीब 12 बजे यहां से रवाना होने से पहले केवड़िया के पास गरुणेश्वर गांव में भगवान दत्तात्रेय के मंदिर में दर्शन करेंगे। पीएम के जन्मदिन पर भाजपा ‘सेवा सप्ताह’ मना रही है। भाजपा की केंद्रीय इकाई समेत प्रदेश और जिला इकाई में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये जा रहे हैं। पीएम के जन्मदिन पर ‘सिंगल यूज प्लास्टिक’ थीम पर जोर दिया जा रहा है

 बधाइयों का तांता 

प्रधानमंत्री को उनके जन्‍मदिन पर पूरी दुनिया से बधाइयां मिल रही हैं। गृह मंत्री अमित शाह ने लिखा, ‘आपके नेतृत्व में उभरते नये भारत ने विश्व में एक मजबूत, सुरक्षित और विश्वसनीय राष्ट्र के रूप में अपनी पहचान बनाई है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने भी ट्वीट करके प्रधानमंत्री मोदी को जन्मदिन की शुभकामनाएं देते हुए उनके दीर्घायु होने और अच्छे स्वास्थ्य की कामना की है। भाजपा ने प्रधानमंत्री को उनके जन्मदिन पर एक विडियो संदेश के जरिए शुभकामनाएं दी है। प्रधानमंत्री के घर के बाहर भारी संख्‍या में लोग जमा हुए हैं।

ट्विटर पर टॉप ट्रेंड कर रहा मोदी का जन्‍मदिन 
प्रधानमंत्री का जन्‍मदिन का ट्विटर पर टॉप ट्रेंड कर रहा है। उनके समर्थक उन्‍हें ट्वीट के जरिए जन्‍मदिन की बधाइयां दे रहे हैं। ट्विटर पर प्रधानमंत्री मोदी के जन्‍मदिन से जुड़े सात हैशटैग टॉप इंडिया ट्रेंड्स में शामिल है। इनमें टॉप पर हैस टैग #happybirthdaynarendramodi ट्रेंड कर रहा है। #HappyBirthdayPM दूसरे नंबर पर जबकि #ShriNarendraModi पांचवें स्‍थान पर ट्रेंड कर रहा है।

भाजपा कार्यकर्ताओं में भारी उत्साह 
भाजपा कार्यकर्ताओं में पीएम मोदी के जन्‍मदिन को लेकर उत्साह देखते ही बनता है। भोपाल में कार्यकर्ताओं ने 69 फुट का केक काटा तो वहीं सूरत में देर रात पीएम मोदी के जन्मदिन के उपलक्ष्य में विधायक हर्ष संघवी के नेतृत्व में जोरदार आतिशबाजी की गई। मंगलवार को वहां 5,000 किलोग्राम का 500 फीट लंबा केक भी बनाया गया है। यह एक रिकॉर्ड होगा।

अब तक ऐसे मनाया जन्‍मदिन 
प्रधानमंत्री ने अब तक अपने जन्‍मदिन को अलग तरीकों से मनाया है। साल 2014 में वह मां हीराबा से मुलाकात की थी, जिन्होंने उन्हें 5001 रुपये का चेक दिया था। वर्ष 2015 में उन्होंने 1965 के युद्ध के सैन्य संग्रहालय सूर्यांजलि का दौरा किया था। वर्ष 2016 में अपने जन्मदिन पर गांधीनगर जाकर मां से आशीर्वाद लिया था। वहीं वर्ष 2017 में मेगा सरदार सरोवर बांध देश को समर्पित किया तथा 2018 में काशी विश्वनाथ के दर्शन किए थे।

दिग्‍गज अंतरराष्‍ट्रीय नेता की बनाई पहचान 
प्रधानमंत्री सोशल मीडिया के जरिये द्विपक्षीय रिश्तों को मजबूत करने में माहिर हैं। साल 2017 में अंतरराष्ट्रीय जलवायु परिवर्तन समझौता लागू कराने में उनकी बड़ी भूमिका रही। यही नहीं उन्‍होंने फ्रांस के साथ 130 देशों के सौर गठबंधन की पहल की। इन पहलकदमियों से वैश्विक नेता की उनकी छवि को मजबूती मिली। वह किसी देश की यात्रा, वहां किसी राष्ट्रीय आयोजन या नेता के जन्मदिन पर वे बधाई देना नहीं भूलते। विदेशी नेता और उनकी जनता से जुड़ाव के लिए वे वहां की भाषा में ट्वीट करते हैं।

कड़े फैसलों ने बनाया लोकप्रिय
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्‍तान में सर्जिकल स्‍ट्राइक या एयर स्‍ट्राइक जैसे कदम उठाकर राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर जो दृढ़ इच्छाशक्ति दिखाई उससे उनकी लोकप्रियता में जबर्दस्‍त इजाफा हुआ है। अपने पीएम पद की दूसरी पारी में पांच अगस्त को कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटाने का जो ऐतिहासिक निर्णय हुआ, उसने भी पीएम मोदी की लोकप्रियता में चार चांद लगाने का काम किया। सियासी नतीजों की परवाह किए सधी रणनीति से कई विपक्षी दलों को साथ लेकर उन्होंने तीन तलाक जैसे कानून भी संसद से पारित कराया। इससे लोगों में उनकी दृढ़ इच्‍छाशक्ति का संदेश गया…  

 शून्य से शिखर तक का सफर

वडनगर में एक निर्धन परिवार में 17 सितंबर 1950 को जन्‍में पीएम मोदी में बचपन से ही देश सेवा की ललक थी। वह सेना में भी शामिल होने का सपना देखते थे। बचपन में नरेंद्र मोदी का परिवार काफी गरीब था और इसलिए जीवन संघर्ष से भरा रहा। उनके पिता स्थानीय रेलवे स्टेशन पर एक चाय के स्टाल पर चाय बेचते थे। शुरुआती दिनों में नरेंद्र मोदी अपने पिता का हाथ बटाया करते थे। प्रधानमंत्री मोदी ने कड़े संघर्ष के बाद शून्य से शिखर तक का सफर तय किया। देश सेवा के जज्‍बे के कारण ही पीएम मोदी पारम्परिक जीवन में नहीं बंधे। उन्‍होंने राजनीति में कदम रखने के बाद एक नई लकीर खींची। यही वजह है कि आज राजनीतिक दुनिया में कहा जाता है कि ‘मोदी युग’ चल रहा है।

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share