इस बार सभी व्यावसायिक वाहनों पर लगानी होगी वीएलटीडी

इस बार सभी व्यावसायिक वाहनों पर लगानी होगी वीएलटीडी

परिवहन विभाग की ओर से सभी व्यावसायिक वाहनों के लिए व्हीकल लोकेशन ट्रैकिंग डिवाइस (वीएलटीडी) अनिवार्य है। चारधाम यात्रा में गत वर्ष बगैर वीएलटीडी लगे वाहनों के जाने पर पाबंदी लगा दी गई थी। विरोध के बाद वीएलटीडी की अनिवार्यता से राहत प्रदान की गई थी। अभी करीब 10 हजार से अधिक ऐसे व्यवसायिक वाहन हैं, जिनमें वीएलटीडी लगना शेष है। इनके लिए इस बार यात्रा सीजन में मुश्किल आएगी। परिवहन विभाग चारधाम यात्रा में जाने वाले वाहनों के लिए वीएलटीडी की अनिवार्यता को लेकर सख्त हो गया है। विभाग ने स्पष्ट किया है कि इस बार चारधाम यात्रा पर जाने वाले वाहनों को वीएलटीडी से किसी प्रकार की छूट नहीं मिलेगी। गत वर्ष भी वीएलटीडी को लेकर अनिवार्यता की गई थी। लेकिन तत्कालीन परिवहन मंत्री चंदन रामदास की अध्यक्षता में यह मुद्दा उठा तो परिवहन कारोबारियों ने राहत की मांग की।

बड़ी संख्या में वाहनों में डिवाइस लगना बाकी
कारोबारियों ने कहा कि इस डिवाइस के बिना वाहनों के ग्रीन कार्ड नहीं बन पा रहे हैं। कारोबारियों की मांग पर चारधाम यात्रा पर जाने वाले वाहनों को ग्रीन कार्ड बनवाने के लिए वीएलटीडी की अनिवार्यता से छूट दे दी गई थी। अब एक साल गुजर चुका है। चारधाम यात्रा फिर शुरू होने वाली है। इस बार भी वहीं समस्या है। सार्वजनिक यातायात वाहनों, टैक्सी, मैक्सी, निजी बस आदि में बड़ी संख्या ऐसे वाहनों की है, जिसमें वीएलटीडी लगना है। काफी वाहनों ने वीएलटीडी लगवा लिया है। अभी भी बड़ी संख्या में वाहनों में यह डिवाइस लगना है। सभी वाहन जल्द डिवाइस लगवा लें, अन्यथा चारधाम यात्रा पर जाना संभव नहीं हो सकेगा। – सुनील शर्मा, आरटीओ

सख्ती से काटे जाएंगे चालान

परिवहन विभाग के अनुसार, जिन सार्वजनिक वाहनों में सवारियां सफर करती हैं, उनमें वीएलटीडी और पैनिक बटन लगवाना जरूरी है, ताकि महिलाओं और बच्चों को आपात स्थिति में तुरंत सहायता मिल सके। इस बार सख्ती के साथ चालान काटने की प्रक्रिया अपनाई जाएगी।

आम व्यावसायिक वाहनों के लिए भी यही नियम

यह अनिवार्यता सुरक्षा के लिहाज से की गई। नए व्यावसायिक वाहनों में यह डिवाइस कंपनी से लगकर आ रही है। डिवाइस के माध्यम से कमांड सेंटर के पास पूरी जानकारी पहुंचती है, कौन सा वाहन कब कहां गया। यह पूरा विवरण कमांड कंट्रोल सेंटर के पास होती है। आपात स्थिति में सवारी पैनिक बटन को दबाने का विकल्प प्रयोग कर पुलिस मदद पा सकता है।

यह हैं फायदे

– परिवहन विभाग के पास रहेगी व्यावसायिक वाहन की लोकेशन

– चारधाम यात्रा में गाड़ी रूट पर है, भटकी तो नहीं, इस पर निगरानी रहेगी

– महिला और बच्चे चारधाम यात्रा में सुरक्षित सफर कर सकेंगे

– गाड़ी के फेेरे के नियम का पालन कराया जा सकेगा, तेज वाहन नहीं चला सकेंगे

– चोरी होने पर गाड़ी का पता लगाना आसान होगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share