दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेसवे जून तक आंशिक रूप से खुलने की उम्मीद

दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेसवे जून तक आंशिक रूप से खुलने की उम्मीद

जल्द ही राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और उत्तराखंड की राजधानी देहरादून को जोड़ने वाला एक नया एक्सप्रेसवे आंशिक रूप से खुल जाएगा। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के अनुसार, 210 किलोमीटर लंबे इस राजमार्ग का पहला चरण इस साल जून के आखिर तक खुलने की उम्मीद है। दिल्ली-देहरादून ग्रीनफील्ड एक्सेस-कंट्रोलड एक्सप्रेसवे का पहला चरण दिल्ली में अक्षरधाम मंदिर और उत्तर प्रदेश के बागपत को जोड़ेगा, जो लगभग 32 किलोमीटर की दूरी है। दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेसवे के अगले साल की शुरुआत तक पूरी तरह से चालू होने की उम्मीद है। परियोजना के पहले चरण को पहले मार्च तक पूरा करने का कार्यक्रम था। हालांकि, दिल्ली में प्रदूषण का स्तर ज्यादा होने पर लागू किए गए ग्रेडेड रिस्पॉन्स एक्शन प्लान के तहत पाबंदियों के चलते एक्सप्रेसवे के निर्माण कार्य में देरी हुई। दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेसवे से दोनों शहरों के बीच यात्रा के समय में लगभग आधी कटौती होने की उम्मीद है। इस समय, यात्री दोनों शहरों के बीच यात्रा करने के लिए दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे का इस्तेमाल करते हैं, जिसमें लगभग पांच घंटे लगते हैं। नया एक्सप्रेसवे यात्रा के समय को लगभग ढाई घंटे तक कम करने का वादा करता है।

दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेसवे के पहले चरण को दो खंडों में बांटा गया है। अक्षरधाम और बागपत के बीच की कुल दूरी 31.65 किमी है और यह बागपत में ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे (ईपीई) पर खेड़ा और मावी कलां इंटरचेंज से होकर गुजरेगी। पहले चरण में दिल्ली की गीता कॉलोनी से शुरू होकर उत्तर प्रदेश के मावी गांव तक लगभग 18 किलोमीटर का एलिवेटेड सेक्शन शामिल है।

मीडिया रिपोर्ट में एनएचएआई के एक अधिकारी के हवाले से कहा गया है कि, “परियोजना का पहला चरण 90-95 प्रतिशत पूरा हो चुका है। और साइनेज, विस्तार जोड़ों और अन्य बुनियादी ढांचे को स्थापित करने का काम चल रहा है। कैरिजवे का काम भी पूरा हो चुका है। हमारा मानना है कि चरण 1 जून के आखिर तक चालू हो जाएगा।” दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेसवे लगभग 8,300 करोड़ रुपये की लागत से बनाया जा रहा है। इसे हल्के वाहनों के लिए 100 किमी प्रति घंटे की गति सीमा को सपोर्ट करने के लिए डिजाइन किया गया है। एक्सप्रेसवे को वन्यजीवों की निर्बाध आवाजाही के लिए एशिया का सबसे बड़ा वन्यजीव एलिवेटेड कॉरिडोर भी मिलेगा। जो राजमार्ग के लगभग 12 किलोमीटर तक फैला है। एलिवेटेड वाइल्डलाइफ कॉरिडोर में 340 मीटर लंबी दाट काली सुरंग भी शामिल है। देहरादून के पास राजमार्ग के आखिरी 20 किलोमीटर लंबे हिस्से का निर्माण कार्य अभी भी जारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share