रुद्रपुर में आयकर विभाग की कार्रवाई के विरोध में सड़कों पर उतरे नेता

रुद्रपुर में आयकर विभाग की कार्रवाई के विरोध में सड़कों पर उतरे नेता

रुद्रपुर में लकड़ी कारोबारियों के ठिकानों पर आयकर विभाग की छापामारी की कार्रवाई के विरोध में व्यापारी सड़क पर उतर आए। दोनों व्यापार मंडलों के आह्वान पर व्यापारियों ने आधे दिन तक दुकानें बंद रखीं। व्यापारियों के साथ ही सियासी दलों के नेताओं ने शांतिपूर्वक जुलूस निकाला और कुछ खुली दुकानों को अनुरोध कर बंद कराया। इस दौरान एहतियातन बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात रही। शुक्रवार को प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल और देवभूमि व्यापार मंडल ने आयकर विभाग की कार्रवाई विरोध में दोपहर एक बजे तक बाजार बंद करने की घोषणा की थी। इसके बाद सुबह नौ बजे व्यापार मंडल अध्यक्ष संजय जुनेजा और देवभूमि व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष गुरमीत सिंह अगुवाई में बड़ी संख्या में व्यापारी बाटा चौक पर एकत्र हुए। यहां से उन्होंने बिना नारेबाजी के शांतिपूर्वक जुलूस निकाला और व्यापारियों से दोपहर तक दुकानें बंद रखने की अपील की। व्यापारी नेताओं की अपील का व्यापक असर रहा और अधिकांश बाजार दोपहर तक बंद रहा।

इस दौरान जुलूस गल्ला मंडी स्थित फर्नीचर मार्ट में पहुंचा, जहां बृृहस्पतिवार से की कार्रवाई चल रही है। इस दौरान विधायक शिव अरोरा, किच्छा विधायक तिलकराज बेहड़, निवर्तमान मेयर रामपाल सिंह, भाजपा प्रदेश मंत्री विकास शर्मा भी व्यापारियों के साथ बाजार में घूमे। वहां हरीश अरोड़ा, संदीप चीमा, मोहन खेड़ा, सुशील गाबा, मनीष गोस्वामी, प्रमोद शर्मा, राकेश डुडेजा, बाबू बांगा, पप्पू गाबा, अमित तनेजा, राजीव कामरा, मंजीत मक्कड़, पंकज बांगा, यमन बब्बर, मनोज मदान आदि थे।

व्यापारी बोले बाजार बंद होने से 20 करोड़ का कारोबार प्रभावित
संजय जुनेजा ने कहा कि अधिकारी जांच के नाम पर उत्पीड़न कर रहे हैं। इसको लेकर व्यापारियों में गुस्सा है। यह गुस्सा सिस्टम के खिलाफ निकलेगा। वह केस झेलने को तैयार हैं। राजनीतिक लोग व्यापारियों को संरक्षण देने की सोच रखें। नोटिस देकर व्यापारी को बुलाना चाहिए था लेकिन अधिकारियों ने तमाशा कर दिया। आज बाजार बंद होने से 20 करोड़ का कारोबार प्रभावित हो गया। गुरमीत सिंह ने कहा कि कार्रवाई को 24 घंटे से ऊपर हो गए हैं। सब कागजात टीम को दिए जा चुके हैं। टीम अपनी जांच करे लेकिन जांच को लेकर व्यापारी का उत्पीड़न हो रहा है। यह व्यापारी बर्दाश्त नहीं करेगा। अगर उत्पीड़न बंद नहीं हुआ तो बेमियादी बाजार बंद करेंगे।

कोतवाल बोले, आचार संहिता है प्रभावी, शांति व्यवस्था न हो बाधितदोनों व्यापार मंडलों के बाजार बंद के आह्वान को लेकर पुलिस भी सतर्क रही। शहर के प्रमुखर जगहों पर ऐहतियातन पुलिस फोर्स तैनात किया गया था। यही नहीं छापामारी की कार्रवाई पर व्यापारियों के आक्रोश से खलल न पड़े, इसको लेकर भी गल्ला मंडी स्थित छापामारी स्थल पर फोर्स बढ़ाई गई थी। मुख्य बाजार में जुलूस निकाल रहे व्यापारियों से कोतवाल धीरेंद्र कुमार ने वार्ता की। कहा कि आचार संहिता लागू है, लिहाजा शांति व्यवस्था बनाए रखें। कोई भी दुकान जबरन बंद न कराएं। व्यापारियोें ने कहा कि आयकर अधिकारी जांच के नाम पर व्यापारी का शोषण कर रहे हैं। इसके विरोध में बाजार बंद का आह्वान है। कोई दुकान जबरन बंद नहीं कराई जाएगी। इधर आधे दिन तक व्यापारियों के आक्रोश को लेकर पुलिस की नजरें टिकी रही।

जनप्रतिनिधियों ने की छापामारी की कार्यवाही के बीच व्यापारी से मुलाकात
गल्ला मंडी स्थित छापामारी स्थल पर बड़ी संख्या में व्यापारी, राजनेता और जनप्रतिनिधियों का जमावड़ा लगा था। व्यापारियों ने टीम के रवैये पर कड़ी नाराजगी जताई। इसके बाद विधायक तिलकराज बेहड़, शिव अरोरा और पूर्व विधायक ठुकराल के साथ ही व्यापारी नेता भी छापे की कार्रवाई के बीच व्यापारी गुलशन नारंग से मिले थे। इस दौरान गुलशन ने किसी तरीके की दिक्कत होने से इनकार किया था। इधर अधिकारियों ने भी जल्द कार्रवाई खत्म करने की बात कही थी।

आयकर विभाग का छापा गुलशन नारंग, रोनिक नारंग के यहां पड़ा है। इस कारण से व्यापारियों में आक्रोश है। गुलशन और परिवार के लोगों से मिला हूं। अधिकारियों को स्पष्ट किया है कि अनावश्यक रूप से तनाव और उत्पीड़न की शिकायत न आए। गुलशन नारंग से बात हुई है और इस प्रकार का विषय संज्ञान में नहीं आया है। व्यापारियों के साथ हैं। किसी प्रकार की जानकारी आएगी तो कठोर विरोध किया जाएगी। सर्च एंड सीजर में कार्यवाही शुरू होने से आखिरी तक परिवार से किसी को मिलने की कानूनी इजाजत नहीं होती है।
– शिव अरोरा, विधायक, रुद्रपुर

एक समय था जब अधिकारी रुद्रपुर के नाम से कतराते थे लेकिन अब खुला खेल हो रहा है। कोई टैक्स चोरी कर रहा है तो उसे नोटिस देकर बुलाकर कार्यवाही करें। इस तरह से व्यापारियों को बंधक बनाकर रखना गलत है। रुद्रपुर को अधिकारियों ने रुपये कमाने का अड्डा बना लिया है। पहली बार व्यापारी हित में एकजुट होने पर व्यापार मंडलों को बधाई है। व्यापारियों को राजनीतिक विचाराधारा को अलग रखकर व्यापारी हित में एकजुट होना चाहिए। लोगों ने अपने फायदे के लिए दो-तीन व्यापार मंडल बना लिए हैं।
– तिलकराज बेहड़, विधायक, किच्छा।छोटे असहाय व्यापारियों के प्रतिष्ठानों पर आयकर विभाग छापे मारकर मानसिक उत्पीड़न कर रहा है। बड़े नेताओ के घरों और प्रतिष्ठानों पर आयकर विभाग की टीमें भेजनी चाहिए, जिससे अनुचित तरीक से कमाई गई अरबों रुपये की अवैध संपत्ति की जांच हो सके। गिरोह बनकर जिन नेताओं का सारा ध्यान सारा दिन अवैध तरीके से धन संपत्ति अर्जन करने में रहता है, वह किसी से छिपा नहीं है। आयकर विभाग को तो ऐसे नेताओं के प्रतिष्ठानों पर छापे मारकर अवैध संपत्तियों अपने कब्जे में लेना चाहिए।
– राजकुमार ठुकराल, पूर्व विधायक। 

आयकर विभाग की कार्रवाई से कोई एतराज नहीं है लेकिन टीम का व्यापारी से बर्ताव अपराधियों जैसा है। 75 साल के बुजुर्ग व्यापारी को दुकान में बंधक सा बना लिया है और टायलेट जाने में भी पुलिस को साथ भेजा जा रहा है। इस व्यवहार से ही सभी आक्रोशित हैं। इसी वजह से बाजार आधे दिन तक बंद किया गया है। अगर उत्पीड़न थमता नहीं है तो बंद को बेमियादी भी किया जा सकता है।
– रामपाल सिंह, निवर्तमान मेयर।

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share