नंदा गौरा योजना के तहत हरिद्वार से लगभग साढ़े चार हजार बेटियों ने मांगा प्रोत्साहन

नंदा गौरा योजना के तहत हरिद्वार से लगभग साढ़े चार हजार बेटियों ने मांगा प्रोत्साहन

नंदा गौरा योजना के तहत हरिद्वार से इंटर पास करने वाली करीब साढ़े चार हजार बेटियों की ओर से प्रोत्साहन राशि सरकार से मांगी गई है। इसके लिए उनकी ओर से जमा कराए गए आवेदनों पर जनपदीय स्तरीय कमेटी आज मुहर लगाएगी। पात्र मिलने वाली गरीब कन्याओं को सरकार की ओर से 51-51 हजार रुपये दिए जाएंगे। उत्तराखंड सरकार की ओर से नंदा गौरा योजना से इंटर पास करने वाली बेटियों को उच्च शिक्षा हासिल करने के लिए प्रोत्साहन राशि के रूप में सहयोग राशि दी जाती है। सरकार की ओर से 31 जनवरी तक जनपद की बेटियों और परिजनों की ओर से आवेदन मांगे गए थे। जिससे जिलेभर से 4439 आवेदन किए गए हैं। ये आवेदन बाल विकास परियोजना कार्यालय में जमा कराए गए हैं। जिनको अब जिला योजना समिति को भेज दिया गया है। जिससे बेटियों को सरकारी सहायता मिलने की उम्मीद भी जग गई है।

आज सोमवार को होने वाली जनपदीय स्तरीय कमेटी के नामित सदस्यों की ओर से आवेदनों की जांच की जाएगी। जिसमें मानकों पर खरा उतरने वाले लाभार्थियों को सहायता राशि जारी करने के लिए सरकार से बजट की डिमांड की जाएगी। सरकार से धन मिलने पर बालिकाओं को कन्याधन स्वरूप पैसा उनके खातों में ऑनलाइन ट्रांसफर कर दिया जाएगा।

लक्सर की बेटियां आवेदन करने में सबसे आगे
महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास की ओर से जनपद में 11 परियोजनाएं चलाई जाती हैं। इनमें से लक्सर परियोजना क्षेत्र की बेटियां योजना का लाभ उठाने में सबसे आगे रही हैं। परियोजना से 790 बालिकाओं ने आवेदन किए हैं। जबकि रुड़की शहर में योजना का लाभ लेने में कोई ज्यादा रुझान नहीं दिखाया गया है। परियोजना से मात्र 80 आवेदन विभाग को प्राप्त हुए हैं।

रविवार को भी परियोजना में डटे रहे कर्मचारी
सोमवार को होने वाली जिला स्तरीय समिति की बैठक में आवेदनों को भेजने के लिए जिले की परियोजनाओं में सुपरवाइजर रविवार को छुट्टी के दिन भी डटी रहीं। उन्होंने सीडीपीओ की ओर से पेंडिंग चल रहे आवेदनों की औपचारिकताएं पूरी कराने के जिला स्तरीय कमेटी में भेजने के लिए कार्य किया। हालांकि, सुपरवाइजर की ओर से छुट्टी में भी काम करने के लिए बुलाने पर नाराजगी जाहिर की गई, लेकिन वह अधिकारियों के निर्देश के आगे कुछ बोल भी नहीं सकीं।
जिन आवेदनों को जिला स्तरीय कमेटी की ओर से स्वीकृति दे दी जाएगी। उन्हें योजना का लाभ मिल जाएगा। औपचारिकताएं पूरी नहीं करने वाले आवेदन निरस्त कर दिए जाएंगे। -सुलेखा सहगल, डीपीओ, हरिद्वार

ये आवेदन मिलने का विवरण

परियोजना – मिले आवेदन
बहादराबाद-1 – 446
बहादराबाद-2 – 370
भगवानपुर – 722
हरिद्वार शहर – 85
खानपुर – 283
लक्सर – 790
मंगलौर – 231
नारसन – 641
रुड़की शहर – 80
रुड़की 1 – 425
रुड़की 2 – 366
कुल – 4439

 

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share